भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार – सम्पूर्ण जानकारी विस्तृत रूप में

1188
भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार - सम्पूर्ण जानकारी विस्तृत रूप में
भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार - सम्पूर्ण जानकारी विस्तृत रूप में

Type of Cheques in Indian Banking System

भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार हिंदी में। Different Type of Cheques in Indian Banking System. Types of Cheques in Hindi. Welcome to the www.letsstudytogether.co online Banking Awareness Section. If you are preparing for SBI, IBPS, PGDBF and other competitive exams, you come across Banking awareness section. Today we are providing you detailed information of Different Type of Cheques in Indian Banking System in Hindi language.

Types of Cheques in Hindi (चेकों के प्रकार)

चेक एक दिनांक और हस्ताक्षरित दस्तावेज है जो कि बैंक को कुछ निश्चित राशि एक व्यक्ति के खाते से जिस व्यक्ति के नाम पर चेक दिया गया है उसमे स्थानातरित करने का आदेश देता है| परक्राम्य उपकरण अधिनियम 1881 के अनुसार चेक एक प्रकार का आदान प्रदान का बिल है|

चेक में आप किसे पैसे दे रहे हैं, उनका नाम लिखना होता है…वह किसी व्यक्ति का नाम भी हो सकता है या किसी फर्म का. चेक में आपको यह भी भरना होता है कि आप कितने पैसे उस व्यक्ति को दे रहे हैं (शब्द और संख्या में), कब दे रहे हैं (Date)…और अंत में आपको सिग्नेचर करना पड़ता है. आपका चेक लेकर बन्दा अपने अकाउंट में डाल देता है और आपने जितना अमाउंट उसे दिया था वो उसके अकाउंट में ट्रान्सफर हो जाता है. संक्षेप में कह सकते हैं कि चेक बिना कैश का भुगतान है, जैसे इलेक्ट्रॉनिक ट्रान्सफर.

Types of Cheque in banking system in India भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार

खुला चेक – Open Cheque

खुला चेक वह चेक होता है जिसे बैंक में प्रस्तुत कर काउंटर पर ही नकद प्राप्त किया जा सकता है. Clarence के लिए आपको इंतज़ार करने की जरुरत नहीं है. गीव एंड टेक…..ओपन चेक को धारण करने वाला व्यक्ति काउंटर में जा कर, चेक दिखाकर….पैसे ले सकता है और या तो अपने अकाउंट में पैसे को ट्रान्सफर कर सकता है या चेक के पीछे हस्ताक्षर कर के किसी अन्य व्यक्ति को प्राधिकृत (authorize) कर सकता है.

बेयरर/धारक चेक – Bearer Cheque

बेयरर चेक वह चेक है जो खाताधारी (account holder) का कोई भी प्रतिनिधि बैंक में जाकर भुना सकता है. प्रतिनिधि को चेक देते समय चेक के पीछे हस्ताक्षर करने की आवश्यकता नहीं होती एवं मात्र चेक दे देने से निकासी हो जाती है. ये चेक risky भी हो सकते हैं क्योंकि अगर यह चेक अगर भुला गया तो कोई भी बैंक जा कर इसे भुना सकता है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

  • इस प्रकार के चेक में, जो व्यक्ति चेक का धारक होता है वह धनराशि को एकत्रित करने का अधिकारी होता है|
  • इस प्रकार के चेक पुष्टिकर्ता होते हैं|
  • Example: आहर्ता- राम, आदाता- श्याम
  • श्याम उसके मित्र मोहन का समर्थन कर सकता है| मोहन बैंक से राशि एकत्रित कर सकता है|
  • बैंक के समक्ष चेक प्रस्तुत करते समय किसी प्रकार की पहचान की आवश्यकता नहीं होती|

Yoy may also like : 40+ Important Static GK PDF for SSC, Railway & Banking Exams 2019 – Download Free

क्रॉस्ड चेक – Crossed Cheque

क्रॉस्ड चेक किसी विशेष व्यक्ति या संस्था के नाम से लिखा जाता है और ऊपर बायीं ओर दो समानांतर लाइनें खींच दी जाती हैं  जिनके बीच “& CO.” or “Account Payee” or “Not Negotiable” लिखा या नहीं भी लिखा जा सकता है. इस चेक से नकद निकासी नहीं होती और सम्बंधित राशि केवल नामित व्यक्ति/संस्था के खाते में हो सकती है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

  • यदि चेक के सामने वाले भाग पर दो समांतर रेखाएं बनाई जाती हैं, तो इस प्रकार के चेक को रेखित/काटा गया चेक कहा जाता है|
  • इस प्रकार के चेक में, आदाता नकद में राशि नहीं निकाल सकता लेकिन राशि को आदाता के खाते में राशि स्थानान्तरण कर सकता है|
  • इस प्रकार के चेक का समर्थन किया जा सकता है|

आदेश चेक – Order Cheque

इस चेक में “bearer” शब्द को काट दिया जाता है और उसके स्थान पर “order” लिख दिया जाता है. इसमें खुले चेक की तरह चेक से अपने अकाउंट में पैसे को ट्रान्सफर कर सकता है या चेक के पीछे हस्ताक्षर कर के किसी अन्य व्यक्ति को प्राधिकृत (authorize) कर सकता है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

इस प्रकार के चेक में जिस व्यक्ति का नाम चेक पर(जारीकर्ता द्वारा) लिखा होता है, वाही राशि एकत्रित करने का अधिकारी होता है|

Types of Cheques in Hindi – गारंटी भुगतान के आधार पर चेक का वर्गीकरण

सेल्फ चेक – Self Cheque

  • सेल्फ चेक वह होता है जिसे खाताधारी बैंक में प्रत्यक्ष भुगतान के लिए स्वयं प्रस्तुत करता है.  इसमें भुगतान पाने वाले के नाम की जगह पर “Self” लिखा जाता है.
  • एक स्वतः चेक को आहर्ता द्वारा भौतिक रूप से उस शाखा से जिसमे उसका खाता है, राशि प्राप्त करने के लिए स्वयं को भुगतान करने हेतु लिखा जाता है|

आगे की तारीख वाला चेक – Post-dated Cheque (PDC)

  • आगे की तिथि में भुगतान वाला चेक एक ऐसा क्रॉस किया हुआ बेयरर चेक होता जिसमें आगे की तिथि अंकित की जाती है. इसका अर्थ यह हुआ है कि इस चेक का भुगतान अंकित तिथि या उसके बाद हो सकता है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

  • उदाहरण- माना आज की तारीख 05/11/2017 है| यदि हम अज एक चेक जरी करते हैं और उस पर तारीख 10/11/2017 डालते हैं, तो इस प्रकार का चेक अदिनांकित चेक कहलाता है|

पीछे की तारीख वाला चेक – Ante-dated Cheque (ADC)

  • इस चेक में बैंक में प्रस्तुत करने के पहले की तिथि होती है. यह चेक अंतिम तिथि से तीन महिना के पूरा होने के तक भुनाया जा सकता है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

  • उदाहरण- माना आज की तारीख 16/12/2017 है| यदि हम आज एक चेक जारी करे हिन् और तारीख 12/11/2017 डालते हैं, तो इस प्रकार का चेक उत्तर-दिनांकित कहलाता है|

काल बाधित चेक – Stale Cheque

  • हर चेक को उसमें अंकित तिथि के तीन महीने के अन्दर-अन्दर भुनाने का नियम है. यदि यह तिथि पार हो जाती है काल बाधित चेक कहलाता है जो बैंक के द्वारा स्वीकार नहीं किया जाता है.

Different Type of Cheques in Indian Banking System - Types of Cheques in Hindi

  • यदि आहर्ता द्वारा जारी किया गया कोई भी चेक तीन माह तक किसी भी बैंक से नहीं लिया जा सकता है, तो इस प्रकार के चेक को गतावधि चेक कहा जाता है|

You may also like : Banks with their Headquarters, Taglines, & Name of Chairman (Updated) – Check Here

Types of Cheques in Hindi – मूल्य के आधार पर चेकों का वर्गीकरण

1. साधारण मूल्य वाले चेक -Normal Value Cheques – 1 लाख से कम मूल्य वाले चेक नॉर्मल वैल्यू चेक कहलाते हैं.

2. ऊँचे मूल्य वाले चेक -High Value Cheques – 1 लाख से ऊपर वाले चेक हाई वैल्यू चेक कहलाते हैं.

3. उपहार चेक – Gift Cheques – अपने प्रिय जनों को उपहारस्वरूप दिए जाने वाले चेक गिफ्ट चेक कहलाते हैं. उपहार चेकों की राशि 100 रु. से लेकर 10,000 रु. तक हो सकती है.

Types of Cheques in Hindi – स्थान के आधार पर चेकों का वर्गीकरण

1. स्थानीय चेक – Local Cheque

यदि City A का चेक City A में ही clear हो तो इसे स्थानीय चेक कहते हैं. जैसे आपको यदि मैंने आपके नाम पर चेक दिया, तो आपको उस चेक को लेकर शहर के ही सम्बंधित ब्रांच में जाना पड़ेगा, आप शहर से बाहर ले कर उसे  clear करवाओगे तो आपको अलग से पैसे लगेंगे (fixed banking charges).

2. आउटस्टेशन चेक – Outstation Cheque

यदि स्थानीय चेक को शहर से बाहर ले जाकर clear कराया जाए तो वह चेक आउटस्टेशन चेक कहलायेगा जिसके लिए बैंक फिक्स्ड चार्जेज लेती है.

3. एट पार चेक  – At par Cheque

यह ऐसा चेक है जो पूरे देश में सबंधित बैंक के सभी ब्रांचों में स्वीकार्य है. और ख़ास बात यह है कि बाहर के ब्रांचों में इसे clear करने के दौरान अतिरिक्त प्रभार नहीं लगता (no additional charges).


50 Insurance Awareness Questions & Answer PDF (Part -1) : Download Free Now

Insurance Awareness PDF