भारत में मुद्रास्फीति | WPI, CPI प्रभाव और कारण | सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

2050
भारत में मुद्रास्फीति | WPI, CPI प्रभाव और कारण | सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में
भारत में मुद्रास्फीति | WPI, CPI प्रभाव और कारण | सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

Inflation in India: WPI, CPI, Effects & Causes

What is Inflation? Effects & Causes of WPI, CPI Inflation. भारत में मुद्रास्फीति प्रभाव और कारण.  Consumer Price Index & Wholesaler Price Index. Inflation notes for Banking & Insurance Exams. जैसा कि हम सभी एसएससी, रेलवे, बैंकिंग, एफसीआई, सीडब्ल्यूसी, बीमा परीक्षा, यूपीएससी और अन्य राज्य पीसीएस परीक्षा जैसे कई प्रतियोगी परीक्षाओं में जानते हैं, बैंकिंग और वित्तीय जागरूकता बार-बार पूछी जाती है, इसलिए आप सभी बैंकिंग और बीमा में बैंकिंग और वित्तीय जागरूकता अनुभाग की उपेक्षा नहीं कर सकते हैं। ।

मुद्रास्फीति (Inflation) ,बैंकिंग और वित्तीय जागरूकता जनरल अवेयरनेस में पूछा जाने वाला एक महत्वपूर्ण विषय है। यह विभिन्न परीक्षाओं जैसे SBI PO/Clerk, LIC AAO, IBPS & other Insurance परीक्षा आदि में पूछा जाता है। यहां हम आपको यहां की महंगाई के बारे में बताएंगे।

भारत में मुद्रास्फीति: WPI, CPI, प्रभाव और कारण

मुद्रास्‍फीति (Inflation)

मुद्रास्फीति अर्थ यह होता है कि जब किसी अर्थव्यवस्था में सामान्य कीमत स्तर लगातार बढ़े और मुद्रा का मूल्य कम हो जाए। यह गणितीय आकलन पर आधारित एक अर्थशास्त्रीय अवधारणा है जिससे बाजार में मुद्रा का प्रसार व वस्तुओ की कीमतों में वृद्धि या कमी की गणना की जाती है। उदाहरण के लिएः 1990 में एक सौ रुपए में जितना सामान आता था, अगर 2000 में उसे खरीदने के लिए दो सौ रुपए व्यय करने पड़े है तो माना जाएगा कि मुद्रा स्फीति शत-प्रतिशत बढ़ गई।

  • माल और सेवाओं के मूल्य में सामान्य वृद्धि
  • इसका अनुमान समय अवधि के संदर्भ में कीमत सूचकांक में परिवर्तन की प्रतिशत दर के रूप में लगाया गया है।
  • वर्तमान में भारत में मुद्रास्फ़ीति दर उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-संयुक्त (आधार वर्ष -2012) की सहायता से मापी जाती है।
  • अप्रैल 2014 तक मुद्रास्फीति दर को थोक मूल्य सूचकांक की सहायता से मापा गया था।
  • मुद्रास्‍फीति की दर==(वर्तमान मूल्‍य सूचकांक-संदर्भ अवधि मूल्‍य सूचकांक )/(संदर्भ अवधि मूल्‍य सूचकांक)×100

सामान्य रूप से इसका अर्थ ये होगा की ये बिना रुके बढ़ती दर से किसी दिए गए कालखण्ड में मूल्य स्तर की वृद्धि हैं जो भविष्य में और अधिक वृद्धि की सम्भावना को बढ़ाती है। भारत में मुद्रा स्फीति का मापन थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index) तथा औद्योगिक श्रमिक हेतु उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (en:Consumer Price Index) से होता है।

मुद्रा स्फीति समस्त अर्थशास्त्रीय शब्दों में संभवतः सर्वाधिक लोकप्रिय है। किंतु इसे पारिभाषित करना एक कठिन कार्य है। विभिन्न विद्वानों ने इसकी भिन्न-भिन्न परिभाषा दी हैं :

  • बहुत कम माल के लिए बहुत अधिक धन की आपूर्ति हो जाने से इसका जन्म हो जाता है।
  • माल या सेवा की आपूर्ति की तुलना में मांग अधिक हो जाने पर भी इसका जन्म ही जाता हैं।
  • आपूर्ति में दोष, गत्यावरोध तथा ढांचागत असंतुलन के चलते भी मुद्रा स्फीति पनपती हैं।

यह भी ज़रूर पढ़िए – भारतीय बैंकिंग प्रणाली में चेकों के प्रकार – सम्पूर्ण जानकारी विस्तृत रूप में

मुद्रास्फीति के प्रकार (Type of Inflation)

मुद्रास्फीति में वृद्धि की दर के आधार पर

1. क्रीपिंग इंफ्लेशन (Creeping Inflation)

  • बहुत कम दर पर मूल्य वृद्धि (<3%)
  • यह अर्थव्यवस्था के लिए सुरक्षित और आवश्यक मानी जाती है।

वॉकिंग या ट्रोटिंग इंफ्लेशन (Walking or Trotting Inflation)

  • मध्यम दर पर मूल्य वृद्धि (3% <मुद्रास्फीति <10%)
  • इस दर पर मुद्रास्फीति अर्थव्यवस्था के लिए चेतावनी का संकेत है।

3. रनिंग मुद्रास्फीति (Running Inflation)

  • उच्च दर पर मूल्य वृद्धि (10% <मुद्रास्फीति <20%)
  • यह अर्थव्यवस्था को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करती है।

4. हाइपर इंफ्लेशन या गैलोपिंग मुद्रास्फीति या रनवे मुद्रास्फीति (Hyperinflation or Galloping Inflation or Runway Inflation)

  • बहुत अधिक दर पर मूल्य वृद्धि (20% <मुद्रास्फीति <100%)
  • इस स्थिति में अर्थव्यवस्था का पतन हो जाता है।

कारणों के आधार पर

1. मांग जन्‍मुद्रास्फीति(Demand Pull Inflation)-

  • सीमित आपूर्ति के समय माल और सेवाओं की अधिक मांग के कारण पैदा होने वाली मुद्रास्फीति।

2. लागत जन्‍मुद्रास्फीति(Cost-Push Inflation)-

  • सीमित आपूर्ति के समय अधिक वस्तुओं और सेवाओं के लिए उच्च इनपुट लागत (उदाहरण- कच्चा माल, वेतन इत्यादि) के कारण पैदा होने वाली मुद्रास्फीति।

अन्य परिभाषाएं-

1. अवस्‍फीति(Deflation)-

  • यह मुद्रास्फीति के विपरीत है।
  • अर्थव्यवस्था में कीमत में सामान्य स्तर की कमी।
  • इस मूल्य सूचकांक में मापन नकारात्मक है।

2. मुद्रास्‍फीतिजनित मंदी(Stagflation)-

  • जब अर्थव्यवस्था में स्थिरता और मुद्रास्फीति मौजूद रहती है।
    स्‍टैगफ्लेशन- कम राष्ट्रीय आय वृद्धि और उच्च बेरोजगारी

3. विस्‍फीति(Disinflation)-

  • जब मुद्रास्फीति की दर धीमी होती है।
    उदाहरण:
    अगर पिछले महीने की मुद्रास्फीति 4% थी और चालू माह में मुद्रास्फीति की दर 3% थी।

4. प्रत्‍यवस्‍फीति(Reflation)

  • मुद्रास्फीति की स्थिति से अर्थव्यवस्था को पुन: पाने के लिए मुद्रास्फीति की दर को बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा जानबूझकर की गयी कार्रवाई |

5. कोर मुद्रास्फीति (Core Inflation)

  • यह कुछ उत्पादों की कीमत में वृद्धि को छोड़कर अर्थव्यवस्था में मूल्य वृद्धि के उपायों (जिनकी कीमत अस्थिर है और अस्थायी है) पर ज्ञात की जाती है।

मुद्रास्फीति के प्रभाव (Effects of Inflation)

1. आय और धन का पुनर्वितरण (Redistribution of income and wealth)

  • मुद्रास्फीति के प्रभाव के कारण लोगों के कुछ समूह को हानि और दूसरे समूह को लाभ होता है।
    उदाहरण-
    A. देनदार और लेनदारों के मामले में-
    देनदार- लाभप्रद
    लेनदार- हानिप्रद
    B. निर्माता और उपभोक्ताओं के मामले में
    निर्माता- लाभप्रद
    उपभोक्ता- हानिप्रद

2. उत्पादन और उपभोग पर प्रभाव (Effects on Production and Consumption)

  • मुद्रास्फ़ीति के कारण मांग कम हो जाती है जो उत्पादन को भी कम कर देती है।
  • लोग कम सेवाओं का उपयोग करने की कोशिश करते हैं जिससे खपत में कमी आती हैं।

3. भुगतान के प्रतिकूल संतुलन (Unfavourable Balance of Payments)

  • अन्य देशों से निर्यात कम होता है और आयात बढ़ता है जिससे संचित विदेशी मुद्रा में कमी आती है।

मुद्रास्फीति के कारण (Causes of Inflation)

कारकों के दो सेट हो सकते हैं जो अर्थव्यवस्था को भड़काने का कारण बन सकते हैं। वे मांग का पुल और लागत का धक्का हैं।

मांग कारक कारकों (Demand Pull Factors)

  • जनसंख्या में वृद्धि।
  • काला धन।
  • आय में वृद्धि।
  • अत्यधिक सरकारी व्यय।

लागत-पुश कारक (Cost-Push Factors)

  • इंफ्रास्ट्रक्चर की अड़चनें जो उत्पादन और वितरण लागत में वृद्धि का कारण बनती हैं।
  • न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में वृद्धि।
  • अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि।
  • जमाखोरी और कालाबाजारी।
  • अप्रत्यक्ष करों में वृद्धि।

यह भी ज़रूर पढ़िए – Small Finance Banks in India with their Headquarters,Chairman & Taglines in Hindi – Complete Details

मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के उपाय (Measures to control Inflation)

1. उधार नियंत्रण (Credit control)

  • यह आरबीआई द्वारा उपयोग की जाती है।

2. प्रत्यक्ष करों में वृद्धि (Increase in Direct Taxes)

  • इसके कारण लोगों के पास कम धन उपलब्ध होता है और उनके द्वारा कम मांग के कारण कीमत कम हो जाती है।

3. मूल्य नियंत्रण (Price Control)

  • अधिकारियों द्वारा अधिकतम मूल्य सीमा तय करके

4. व्यापार मापन (Trade measures)

  • माल और सेवाओं के निर्यात और आयात द्वारा अर्थव्यवस्था में उचित आपूर्ति बनाकर

मुद्रास्फीति को कैसे मापें? (How to Measure Inflation?)

मुद्रास्फीति को तीन प्रकारों में मापा जा सकता है:

  1. थोक व्यापारी मूल्य सूचकांक (Wholesaler Price Index)
  2. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (Consumer Price Index)
  3. निर्माता मूल्य सूचकांक (Producer Price Index)

निर्माता मूल्य सूचकांक (Producer Price Index): एक उत्पादक मूल्य सूचकांक कीमतों का एक सूचकांक है जो घरेलू उत्पादकों द्वारा उनके उत्पादन के लिए प्राप्त औसत मूल्य परिवर्तनों को मापता है।

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक(Consumer Price Index): उपभोक्ता मूल्य सूचकांक को मांग-पुल मुद्रास्फीति कहा जा सकता है, जो उपभोक्ता की बढ़ती मांग और वस्तुओं और सेवाओं के लिए आपूर्ति के कारण होने वाली मुद्रास्फीति है जो इसे पकड़ नहीं सकती है।

थोक विक्रेता मूल्य सूचकांक(Wholesaler Price Index): दूसरी ओर, पूरे विक्रय मूल्य सूचकांक को आपूर्ति धक्का मुद्रास्फीति कहा जा सकता है, जहां बढ़ती आर्थिक गतिविधि ऐसी बढ़ती गतिविधि से वस्तुओं और सेवाओं की अधिक आपूर्ति और अधिक मांग पैदा करती है।


Important Banking Awareness Free PDF – Download Below

Banks with their Headquarters, Taglines, & Name of Chairman – Check Here

List of International Organizations and their Headquarters & Heads – Download PDF Banks with their Headquarters, Taglines, & Name of Chairman (Updated) – Check Here
Payment Banks with its Headquarters (HQ) | Complete Details List of Small Finance Banks with its Headquarters (HQ) | Complete Details
Banking Awareness | First in Banks in Indian Banking History Important Banking & Financial Abbreviations for Bank Exams : Download PDF